MY INNER KARAMA
MY INNER KARAMA
Bhajan No. 113 | Date: 29-Jun-19981998-06-29वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।/bhajan/?title=vaha-re-prabhu-tera-khela-baa-hi-nirala-haiवाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।

दुःख भी दिया तो कैसा कि तुझे याद करते रहें हम।

दर्द भी दिया तो कैसा कि तुझे भूल न जाएँ हम।

क्या इस लिए कि सुख में तुम्हें भूल जाते हैं हम?

बनाया है तुमने हमें कैसा कि इतने कमज़ोर हैं हम।

परीक्षा ली भी कैसी, कि दर्द देने के बाद पूछते हो कि “क्या इसे झेल सके तुम?”

तुम तो हो सम्पूर्ण सब तरह से, तो क्या दर्द की पहचान है तुम्हें?

अधूरे होके भी हम जी रहे हैं सिर्फ तेरी याद में।

उत्तर दो प्रभु हमें कि क्या यह है शान और पहचान तेरी?


वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।
Home » Bhajans » वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।
  1. Home
  2. Bhajans
  3. वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।

वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।

View Original
Increase Font Decrease Font


वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।

दुःख भी दिया तो कैसा कि तुझे याद करते रहें हम।

दर्द भी दिया तो कैसा कि तुझे भूल न जाएँ हम।

क्या इस लिए कि सुख में तुम्हें भूल जाते हैं हम?

बनाया है तुमने हमें कैसा कि इतने कमज़ोर हैं हम।

परीक्षा ली भी कैसी, कि दर्द देने के बाद पूछते हो कि “क्या इसे झेल सके तुम?”

तुम तो हो सम्पूर्ण सब तरह से, तो क्या दर्द की पहचान है तुम्हें?

अधूरे होके भी हम जी रहे हैं सिर्फ तेरी याद में।

उत्तर दो प्रभु हमें कि क्या यह है शान और पहचान तेरी?



- डॉ. ईरा शाह
Lyrics in English Increase Font Decrease Font


vāha rē prabhu, tērā khēla baड़ā hī nirālā hai।

duḥkha bhī diyā tō kaisā ki tujhē yāda karatē rahēṁ hama।

darda bhī diyā tō kaisā ki tujhē bhūla na jāēm̐ hama।

kyā isa liē ki sukha mēṁ tumhēṁ bhūla jātē haiṁ hama?

banāyā hai tumanē hamēṁ kaisā ki itanē kamaज़ōra haiṁ hama।

parīkṣā lī bhī kaisī, ki darda dēnē kē bāda pūchatē hō ki "kyā isē jhēla sakē tuma?"

tuma tō hō sampūrṇa saba taraha sē, tō kyā darda kī pahacāna hai tumhēṁ?

adhūrē hōkē bhī hama jī rahē haiṁ sirpha tērī yāda mēṁ।

uttara dō prabhu hamēṁ ki kyā yaha hai śāna aura pahacāna tērī?
Previous
Previous Bhajan
राह देख रही ये पलकें इस द्वार पे, कि तुम कब आओगे।
Next

Next Bhajan
बेखबर रहे हम ज़िंदगी में कि पाँवतले ज़मीन निकल गई और
 
Previous
Previous Hindi Bhajan
राह देख रही ये पलकें इस द्वार पे, कि तुम कब आओगे।
Next

Next Hindi Bhajan
बेखबर रहे हम ज़िंदगी में कि पाँवतले ज़मीन निकल गई और
वाह रे प्रभु, तेरा खेल बड़ा ही निराला है।
First...2526...Last