MY INNER KARAMA
MY INNER KARAMA
Bhajan No. 44 | Date: 12-Jun-19981998-06-12जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?/bhajan/?title=jisa-hatha-ne-itana-kuchha-diya-vo-hatha-aba-pichhe-kyom-hata-gayaजिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?

जिसे अपना मानकर चल पड़े हम, वो अब हम से दूर क्यों हो गया?

क्या भूल हो गई हमसे, कि खामोश हो गए तुम, वो हाथ…

मुस्कुराकर बोले कि कोई बात नहीं है, तो आँसू क्यों आ गए आँखों में, वो हाथ…

कहा जब हम एक ही हैं, तो हमें अलग समझकर ये दिल क्यों तोड़ा, वो हाथ…

निकल पड़े राह में हम तेरे संग-संग, तो बीच में पाया कि बिछड़ गए हम, वो हाथ…

क्या ये मेरा भ्रम है या मेरा सपना, तो उसे मिटा क्यों नहीं देते तुम?

झेल लेंगे हम दुनियावालों के ताने, पर झेल न पायेंगे हम ये दूरी, ये हाथ…

मंज़िल है मेरी बस तू ही, वो मंज़िल अब हमे क्यों दूर होती दिखाई दे रही है, ये हाथ…

क्या भूल हो गई हमसे, ये दुबारा पूछते हैं हम, क्योंकि

जी नहीं सकते अब हम तेरे बिना।


जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?
Home » Bhajans » जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?
  1. Home
  2. Bhajans
  3. जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?

जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?

View Original
Increase Font Decrease Font


जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?

जिसे अपना मानकर चल पड़े हम, वो अब हम से दूर क्यों हो गया?

क्या भूल हो गई हमसे, कि खामोश हो गए तुम, वो हाथ…

मुस्कुराकर बोले कि कोई बात नहीं है, तो आँसू क्यों आ गए आँखों में, वो हाथ…

कहा जब हम एक ही हैं, तो हमें अलग समझकर ये दिल क्यों तोड़ा, वो हाथ…

निकल पड़े राह में हम तेरे संग-संग, तो बीच में पाया कि बिछड़ गए हम, वो हाथ…

क्या ये मेरा भ्रम है या मेरा सपना, तो उसे मिटा क्यों नहीं देते तुम?

झेल लेंगे हम दुनियावालों के ताने, पर झेल न पायेंगे हम ये दूरी, ये हाथ…

मंज़िल है मेरी बस तू ही, वो मंज़िल अब हमे क्यों दूर होती दिखाई दे रही है, ये हाथ…

क्या भूल हो गई हमसे, ये दुबारा पूछते हैं हम, क्योंकि

जी नहीं सकते अब हम तेरे बिना।



- डॉ. ईरा शाह
Lyrics in English Increase Font Decrease Font


jisa hātha nē itanā kucha diyā, vō hātha aba pīchē kyōṁ haṭa gayā?

jisē apanā mānakara cala paड़ē hama, vō aba hama sē dūra kyōṁ hō gayā?

kyā bhūla hō gaī hamasē, ki khāmōśa hō gaē tuma, vō hātha…

muskurākara bōlē ki kōī bāta nahīṁ hai, tō ām̐sū kyōṁ ā gaē ām̐khōṁ mēṁ, vō hātha…

kahā jaba hama ēka hī haiṁ, tō hamēṁ alaga samajhakara yē dila kyōṁ tōड़ā, vō hātha…

nikala paड़ē rāha mēṁ hama tērē saṁga-saṁga, tō bīca mēṁ pāyā ki bichaड़ gaē hama, vō hātha…

kyā yē mērā bhrama hai yā mērā sapanā, tō usē miṭā kyōṁ nahīṁ dētē tuma?

jhēla lēṁgē hama duniyāvālōṁ kē tānē, para jhēla na pāyēṁgē hama yē dūrī, yē hātha…

maṁज़ila hai mērī basa tū hī, vō maṁज़ila aba hamē kyōṁ dūra hōtī dikhāī dē rahī hai, yē hātha…

kyā bhūla hō gaī hamasē, yē dubārā pūchatē haiṁ hama, kyōṁki

jī nahīṁ sakatē aba hama tērē binā।
Previous
Previous Bhajan
अगर तुम हमसे रुठ गए, तो तुझे मनाना कैसे, वो सिखा दे।
Next

Next Bhajan
गीत मेरा सुनकर, क्यों रो पड़े तुम?
 
Previous
Previous Hindi Bhajan
अगर तुम हमसे रुठ गए, तो तुझे मनाना कैसे, वो सिखा दे।
Next

Next Hindi Bhajan
गीत मेरा सुनकर, क्यों रो पड़े तुम?
जिस हाथ ने इतना कुछ दिया, वो हाथ अब पीछे क्यों हट गया?
First...1718...Last